Skip to main content

औरंगाबाद: सड़क हादसे में बहनोई और साले की गई जान

मुफस्सिल थाना क्षेत्र के एनएच- 139 पर बिजौली मोड़

के समीप सड़क हादसे में बाइक सवार बहनोई और साले की मौत हो गई। मृतकों की पहचान देव थाना क्षेत्र के पड़रिया गांव के रहने वाले संजय सिंह के बेटे रोशन कुमार सिंह उर्फ छोटू और उसके साले औरंगाबाद के रिसियप थाना के मटिहानी गांव के प्रवेश सिंह के बेटे राकेश सिंह के रूप में की गई है।

मिली जानकारी के अनुसार रविवार की रात दोनों बाइक से औरंगाबाद से मटिहानी गांव जा रहे थे। बिजौली मोड़ के समीप एक अज्ञात वाहन ने बाइक में टक्कर मार दी जिससे राकेश सिंह की मौत घटनास्थल पर ही हो गई। दुर्घटना के बाद रास्ते से गुजर रहे लोगों की नजर पड़ी तो मामले की सूचना मुफस्सिल थाना पुलिस को दी गई। काफी समय के बाद मुफस्सिल थाना की गाड़ी यहां पहुंची जिसके बाद घायल रोशन कुमार सिंह को सदर अस्पताल भिजवाया गया। प्राथमिक उपचार के बाद उसे रेफर किया गया लेकिन उसकी मौत हो गई।

राकेश सिंह की मौत घटनास्थल पर ही हो चुकी थी। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया है। दोनों के पास से स्मार्ट फोन बरामद किया गया था जिससे उनके परिजनों को सूचना दी गई। रात में ही लोग सदर अस्पताल पहुंचे और मौत की खबर मिलने पर बिलखने लगे।

Comments

Popular posts from this blog

Phir Chala Ginny Weds Sunny

Rajya Sabha elections on 18 seats tomorrow, who will win?

  नईल्ली:  देश भर के सात राज्यों की 18 राज्यसभा सीटों के लिए 19 जून को मतदान कराए जाएंगे। इसमें आंध्र प्रदेश (4 सीट), गुजरात (4 सीट), झारखंड (2 सीट), मध्य प्रदेश (3 सीट), मणिपुर (1 सीट), मेघालय (1 सीट) एवं राजस्थान (3 सीट) शामिल हैं। इस मामले में बीजेपी व कांग्रेस पार्टी समेत अन्य दलों ने कमर कस ली है। दलों के भीतर बैठकों का दौर जारी है, ताकि विधायकों को दूसरे पाले में जाने से रोका जा सके। बता दें कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते राज्यसभा (Rajya Sabha) चुनाव मार्च में स्थगित कर दिए गए थे। राज्यसभा चुनाव के लिए 26 मार्च को मतदान होना था। मार्च में ही 38 सीटों पर निर्विरोध चुनाव होने के कारण 55 में सिर्फ 17 सीटों पर ही चुनाव होना बाकी था। निर्विरोध चुने गए लोगों को आयोग की ओर से विजयी प्रमाण लेटर दे दिये गये थे। बता दें 25 फरवरी को निर्वाचन आयोग की ओर से जारी अधिसूचना में कर्नाटक, अरुणाचल प्रदेश, व मिजोरम का ना्म शामिल नहीं था। हालांकि चुनावी प्रक्रिया के देर होने व इन राज्यों में राज्यसभा की सीटों पर कार्यकाल समाप्त होने की वजह से नयी अधिसूचना में इन्हें भी शामिल किया गया,

कोरोना काल में लैपटॉप, मोबाइल पर काम कर रहे लोग, जानें क्या है बड़ा कारण से

संपूर्ण संसार को कोरोना वायरस ने अपनी गिरफ्त में ले रखा है.इससे बचने के लिए लोगों ने घर में रहकर लगभग ढाई महीने का वक्त गुजारा.इस दौरान कंपनियों ने वर्क फ्रॉम होम के जरिए कर्मचारियों को घर से ही काम करने की छूट दी.हालांकि अब अनलॉक-1 चल रहा है, लेकिन अभी काफी हद तक वर्क फ्रॉम होम का विकल्प आजमाया जा रहा है.ऐसे में लगातार लैपटॉप, मोबाइल पर काम करना और देर तक टीवी स्क्रीन से चिपके रहना आंखों के लिए कई तरह समस्या का कारण बन रहा है.जानें क्‍या कहते है कानपुर के (एम.एस.) आई सर्जन डॉ. दिलप्रीत सिंह। like आपकी जानकारी के लिए बता दे कि लॉकडाउन के दौरान लगातार घर में रहकर काम या पढ़ने के कारण आंखों में होने वाली परेशानी, जैसे खुजली, सूखापन, आंखों से पानी आना, आंखों का लाल होना, सिरदर्द आदि समस्याओं में पांच से दस फीसद इजाफा हुआ.वैसे भी गर्मियों में आंखों के संक्रमण का खतरा अधिक रहता है.इस समस्या से सबसे ज्यादा कामकाजी लोग प्रभावित हो रहे हैं.इसका प्रमुख कारण बढ़ा हुआ स्क्रीन टाइम है।इसके अलावा आमतौर पर ऑफिस में कंप्यूटर पर 6 से 8 घंटे काम किया जाता है, लेकिन इस दौरान, टी या लंच ब्रेक क