Skip to main content

Natural beauty is deteriorating in Samod area of ​​Jaipur districtSacchi ghatna 🙏😂🙏

   likeजयपुर जिले के सामोद इलाके में गए हैं। इलाके में कई स्थानों पर किया जा रहा है। होने से प्राकृतिक सौंदर्य बिगड़ रहा है।

रेत के टीले ही विदेशी मेहमानों को अपनी ओर खींचते हैं। विदेशी अतिथि इन रेत के धोरों पर ऊंट की सवारी करने के लिए हमेशा आतुर रहते हैं। साथ ही हॉलीवुड व बॉलीवुड को भी ये रेत के दौरे अपनी ओर आकर्षित करते हैं मगर आज जगह­-जगह इस रेत के गैरकानूनी दोहन से धीरे-धीरे ये रेत के धोरे लुप्त होने के कगार पर हैं।

रेत माफिया मिट्टी का गैरकानूनी व्यापार करके एक तरफ सरकार को राजस्व का चूना लगा रहा है तो वहीं दूसरी तरफ प्राकृतिक सौंदर्य के साथ खिलवाड़ कर रहा है। सामोद सहित आसपास जितने भी रेत के टीले हैं, वो सभी वन विभाग व सरकारी जमीन के हिस्से आते हैं मगर प्रभावशाली लोग इस रेत को बेचने का गैरकानूनी कारोबार करते हैं।

अवैध दोहन के चलते जमीन पर हो रहे गहरे गड्ढे
जानकारी के अनुसार, कुछ प्रभावशाली लोग ट्रैक्टर-ट्रॉली में रेत भरकर बेचते हैं, जिससे राजस्थान का प्राकृतिक सौंदर्य तो घटता जा ही रहा है। साथ ही ये लोग सरकार को भी राजस्व की चपत लगा रहे हैं। मिट्टी के इस गैरकानूनी दोहन के कारण जहां रेत के ऊंचे-ऊंचे टीले हुआ करते थे, आज वहां गैरकानूनी दोहन के चलते गहरे गड्ढे हो गए हैं। ग्रामीणों के अनुसार, कुछ प्रभावशाली लोग जेसीबी की सहायता से ट्रैक्टर-ट्रॉली में भर कर मिट्टी को बेच रहे हैं। प्रति ट्रैक्टर-ट्रॉली ये लोग 300 से 500 रुपये तक राशि वसूलते हैं, जिससे सरकार को लाखों रुपये की चपत लगा चुके हैं। साथ ही ये कार्य लगातार जारी है।

Comments

Popular posts from this blog

संकट के वक्त देवदूत बनी इस लड़की की पूरी दुनिया कर रही तारीफ, इस तरह रातों-रात बन गई स्टारIn the time of crisis, this girl became an angel, praising the whole world, thus became a star overnight

केरल.  पांच महीने से ज्यादा का वक्त हो गया फिर भी कोरोना के कहर का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। रोज हजारों लोग इससे संक्रमित हो रहे हैं। इन सबके बावजूद भी अपनी जान जोखिम में डालकर नर्से कोरोना संक्रमित मरीजों की सेवा में रात दिन जुटी हैं। ऐसी ही एक भारतीय नर्स की तस्वीरें और ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं, जिनकी तारीफ ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटर भी कर रहे हैं।  link दरअसल, इस मुश्किल घड़ी में केरल के कोट्टायम जिले की रहने वाली नर्स शेरोन वर्गीस ऑस्ट्रेलिया में कोरोना के खिलाफ जारी इस लड़ाई में अपना अहम रोल निभा रही हैं। वह 15 से 18 घंटे की ड्यूटी करके मरीजों की सेवा कर रही हैं। नर्स शेरोन वर्गीस के काम से प्रभावित होकर पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर एडम गिलक्रिस्ट ने सोशल मीडिया पर बधाई दी है। उन्होंने एक ऑडियो के जरिए उनकी तारीफ की है। जिसके बाद से भारत समेत पूरी दुनिया में लोग उनके बलिदान और फर्ज की सराहना कर रहे हैं। बता दें कि कोट्टायम जिले के कुरुपंथरा की रहने वाली 23 साल की शेरोन वर्गीस ने ऑस्ट्रेलिया के वुल्लोंगॉन्ग विश्वविद्यालय से अपनी बैचलर ऑफ नर्सिंग की डिग्री साल 2019 म

Actress Mohina Kumari salutes the doctor who was fighting the battle with Corona, sleeping on the chair!!

लाइव हिंदी खबर (मनोरंजन):-  कोरोना महामारी के चलते लॉक डाउन में डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टाफ भगवान की तरह लोगों की सहायता में लगातार जुटे हुए हैं। वहीं देश भर के डॉक्टर्स इस बीमारी को हराने के लिए जी जान से मेहनत करने में जुटे हुए हैं। At the same time, this is the reason why the citizens of the country keep encouraging these heroes battling the corona virus from time to time. At the same time, many TV stars have thanked doctors and medical staff in their own style in the past.   check Apart from this, the name of TV actress Mohina Kumari Singh has also been included in this list. For your information, let us know that Mohina Kumari Singh has already shared a picture on social media.

कोरोना काल में लैपटॉप, मोबाइल पर काम कर रहे लोग, जानें क्या है बड़ा कारण से

संपूर्ण संसार को कोरोना वायरस ने अपनी गिरफ्त में ले रखा है.इससे बचने के लिए लोगों ने घर में रहकर लगभग ढाई महीने का वक्त गुजारा.इस दौरान कंपनियों ने वर्क फ्रॉम होम के जरिए कर्मचारियों को घर से ही काम करने की छूट दी.हालांकि अब अनलॉक-1 चल रहा है, लेकिन अभी काफी हद तक वर्क फ्रॉम होम का विकल्प आजमाया जा रहा है.ऐसे में लगातार लैपटॉप, मोबाइल पर काम करना और देर तक टीवी स्क्रीन से चिपके रहना आंखों के लिए कई तरह समस्या का कारण बन रहा है.जानें क्‍या कहते है कानपुर के (एम.एस.) आई सर्जन डॉ. दिलप्रीत सिंह। like आपकी जानकारी के लिए बता दे कि लॉकडाउन के दौरान लगातार घर में रहकर काम या पढ़ने के कारण आंखों में होने वाली परेशानी, जैसे खुजली, सूखापन, आंखों से पानी आना, आंखों का लाल होना, सिरदर्द आदि समस्याओं में पांच से दस फीसद इजाफा हुआ.वैसे भी गर्मियों में आंखों के संक्रमण का खतरा अधिक रहता है.इस समस्या से सबसे ज्यादा कामकाजी लोग प्रभावित हो रहे हैं.इसका प्रमुख कारण बढ़ा हुआ स्क्रीन टाइम है।इसके अलावा आमतौर पर ऑफिस में कंप्यूटर पर 6 से 8 घंटे काम किया जाता है, लेकिन इस दौरान, टी या लंच ब्रेक क