Skip to main content

German airline Lufthansa to lay off 22,000 employees.

Lufthansa on Thursday said that it plans to lay off a total of 22,000 full-time employees.

Further, due to the impact of the pandemic and the financial impact, the airline will also reduce its fleet by around 100 aircraft.

"Without a significant reduction in personnel costs during the crisis, we will miss the opportunity of a better restart from the crisis and risk that the Lufthansa Group will emerge considerably weakened after it. In addition, personnel overhang is likely to become even larger, so that a reduction of personnel overhang by implementing unilateral measures would be inevitable," said Michael Niggemann, Executive Board Member Human Resources & Legal Affairs and Labour Director of Deutsche Lufthansa AG.

"We want to avoid this scenario. That is why we are doing everything we can to achieve concrete results with our collective bargaining partners by June 22, 2020," Niggemann added.

According to the company, the goal is to pave the way for keeping as many jobs as possible in the Lufthansa Group. In order to achieve this, concrete measures to reduce personnel costs are required that will apply for the period of the corona crisis, the company said

As per the airline, it aims to avoid compulsory redundancies as far as possible by means of short-time work and crisis agreements.

Comments

Popular posts from this blog

संकट के वक्त देवदूत बनी इस लड़की की पूरी दुनिया कर रही तारीफ, इस तरह रातों-रात बन गई स्टारIn the time of crisis, this girl became an angel, praising the whole world, thus became a star overnight

केरल.  पांच महीने से ज्यादा का वक्त हो गया फिर भी कोरोना के कहर का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। रोज हजारों लोग इससे संक्रमित हो रहे हैं। इन सबके बावजूद भी अपनी जान जोखिम में डालकर नर्से कोरोना संक्रमित मरीजों की सेवा में रात दिन जुटी हैं। ऐसी ही एक भारतीय नर्स की तस्वीरें और ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं, जिनकी तारीफ ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटर भी कर रहे हैं।  link दरअसल, इस मुश्किल घड़ी में केरल के कोट्टायम जिले की रहने वाली नर्स शेरोन वर्गीस ऑस्ट्रेलिया में कोरोना के खिलाफ जारी इस लड़ाई में अपना अहम रोल निभा रही हैं। वह 15 से 18 घंटे की ड्यूटी करके मरीजों की सेवा कर रही हैं। नर्स शेरोन वर्गीस के काम से प्रभावित होकर पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर एडम गिलक्रिस्ट ने सोशल मीडिया पर बधाई दी है। उन्होंने एक ऑडियो के जरिए उनकी तारीफ की है। जिसके बाद से भारत समेत पूरी दुनिया में लोग उनके बलिदान और फर्ज की सराहना कर रहे हैं। बता दें कि कोट्टायम जिले के कुरुपंथरा की रहने वाली 23 साल की शेरोन वर्गीस ने ऑस्ट्रेलिया के वुल्लोंगॉन्ग विश्वविद्यालय से अपनी बैचलर ऑफ नर्सिंग की डिग्री साल 2019 म

Actress Mohina Kumari salutes the doctor who was fighting the battle with Corona, sleeping on the chair!!

लाइव हिंदी खबर (मनोरंजन):-  कोरोना महामारी के चलते लॉक डाउन में डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टाफ भगवान की तरह लोगों की सहायता में लगातार जुटे हुए हैं। वहीं देश भर के डॉक्टर्स इस बीमारी को हराने के लिए जी जान से मेहनत करने में जुटे हुए हैं। At the same time, this is the reason why the citizens of the country keep encouraging these heroes battling the corona virus from time to time. At the same time, many TV stars have thanked doctors and medical staff in their own style in the past.   check Apart from this, the name of TV actress Mohina Kumari Singh has also been included in this list. For your information, let us know that Mohina Kumari Singh has already shared a picture on social media.

कोरोना काल में लैपटॉप, मोबाइल पर काम कर रहे लोग, जानें क्या है बड़ा कारण से

संपूर्ण संसार को कोरोना वायरस ने अपनी गिरफ्त में ले रखा है.इससे बचने के लिए लोगों ने घर में रहकर लगभग ढाई महीने का वक्त गुजारा.इस दौरान कंपनियों ने वर्क फ्रॉम होम के जरिए कर्मचारियों को घर से ही काम करने की छूट दी.हालांकि अब अनलॉक-1 चल रहा है, लेकिन अभी काफी हद तक वर्क फ्रॉम होम का विकल्प आजमाया जा रहा है.ऐसे में लगातार लैपटॉप, मोबाइल पर काम करना और देर तक टीवी स्क्रीन से चिपके रहना आंखों के लिए कई तरह समस्या का कारण बन रहा है.जानें क्‍या कहते है कानपुर के (एम.एस.) आई सर्जन डॉ. दिलप्रीत सिंह। like आपकी जानकारी के लिए बता दे कि लॉकडाउन के दौरान लगातार घर में रहकर काम या पढ़ने के कारण आंखों में होने वाली परेशानी, जैसे खुजली, सूखापन, आंखों से पानी आना, आंखों का लाल होना, सिरदर्द आदि समस्याओं में पांच से दस फीसद इजाफा हुआ.वैसे भी गर्मियों में आंखों के संक्रमण का खतरा अधिक रहता है.इस समस्या से सबसे ज्यादा कामकाजी लोग प्रभावित हो रहे हैं.इसका प्रमुख कारण बढ़ा हुआ स्क्रीन टाइम है।इसके अलावा आमतौर पर ऑफिस में कंप्यूटर पर 6 से 8 घंटे काम किया जाता है, लेकिन इस दौरान, टी या लंच ब्रेक क