Skip to main content

Mumbai Hospitals Disposes Dead Bodies of COVID Patients As Unclaimed, Families are Waiting On Other Side,

Mumbai : The number of corona patients in Maharashtra has increased to 97 thousand 648 and 3590 people have died so far. 3607 new cases were reported in Maharashtra. 152 people died in a single day. There are 54 thousand patients of Corona in Mumbai alone. So far 1952 people have died in Mumbai. During the 24 hours, 1540 new cases have been found here and 97 people died in one day. As the number of patients is increasing, the condition of hospitals in Mumbai is deteriorating.

You will be surprised to know that dozens of cases were reported in Mumbai in which the corpses of those who died from Corona were buried or burnt as unclaimed. A news report claimed that a family whose patient was admitted to the trauma center in Jogeshwari and died. The family members did not even know and the dead body was burnt as unclaimed.

Actually on May 11, Rakesh Verma’s test report came positive. The BMC was informed and the BMC team immediately took Rakesh to the hospital. He was admitted to the Trauma Care Center Hospital in Jogeshwari. Since the family members were not tested, the BMC sent Rakesh Verma’s wife, two children and mother to the quarantine center. Till May 15, mother and wife kept asking Rakesh Verma about the situation through phone from the Quarantine Center. But one day Rakesh suddenly disappeared from his bed. It turned out that he was shifted to another hospital but no news was received after that.

Rakesh’s family returned home on May 25 from the Quarantine Center. On reaching the hospital, when they asked about Rakesh, no information was received. On May 27, after registering a police report after a series of rounds, a death certificate of Rakesh was found. After this, it was found that Rakesh had died on May 17 itself. The Wadala police cremated Rakesh’s dead body on May 18 as an unclaimed possession. Rakesh’s father has died earlier. He was the only sonmor link 

Comments

Popular posts from this blog

संकट के वक्त देवदूत बनी इस लड़की की पूरी दुनिया कर रही तारीफ, इस तरह रातों-रात बन गई स्टारIn the time of crisis, this girl became an angel, praising the whole world, thus became a star overnight

केरल.  पांच महीने से ज्यादा का वक्त हो गया फिर भी कोरोना के कहर का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा। रोज हजारों लोग इससे संक्रमित हो रहे हैं। इन सबके बावजूद भी अपनी जान जोखिम में डालकर नर्से कोरोना संक्रमित मरीजों की सेवा में रात दिन जुटी हैं। ऐसी ही एक भारतीय नर्स की तस्वीरें और ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं, जिनकी तारीफ ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटर भी कर रहे हैं।  link दरअसल, इस मुश्किल घड़ी में केरल के कोट्टायम जिले की रहने वाली नर्स शेरोन वर्गीस ऑस्ट्रेलिया में कोरोना के खिलाफ जारी इस लड़ाई में अपना अहम रोल निभा रही हैं। वह 15 से 18 घंटे की ड्यूटी करके मरीजों की सेवा कर रही हैं। नर्स शेरोन वर्गीस के काम से प्रभावित होकर पूर्व ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर एडम गिलक्रिस्ट ने सोशल मीडिया पर बधाई दी है। उन्होंने एक ऑडियो के जरिए उनकी तारीफ की है। जिसके बाद से भारत समेत पूरी दुनिया में लोग उनके बलिदान और फर्ज की सराहना कर रहे हैं। बता दें कि कोट्टायम जिले के कुरुपंथरा की रहने वाली 23 साल की शेरोन वर्गीस ने ऑस्ट्रेलिया के वुल्लोंगॉन्ग विश्वविद्यालय से अपनी बैचलर ऑफ नर्सिंग की डिग्री साल 2019 म

Actress Mohina Kumari salutes the doctor who was fighting the battle with Corona, sleeping on the chair!!

लाइव हिंदी खबर (मनोरंजन):-  कोरोना महामारी के चलते लॉक डाउन में डॉक्टर्स और पैरामेडिकल स्टाफ भगवान की तरह लोगों की सहायता में लगातार जुटे हुए हैं। वहीं देश भर के डॉक्टर्स इस बीमारी को हराने के लिए जी जान से मेहनत करने में जुटे हुए हैं। At the same time, this is the reason why the citizens of the country keep encouraging these heroes battling the corona virus from time to time. At the same time, many TV stars have thanked doctors and medical staff in their own style in the past.   check Apart from this, the name of TV actress Mohina Kumari Singh has also been included in this list. For your information, let us know that Mohina Kumari Singh has already shared a picture on social media.

कोरोना काल में लैपटॉप, मोबाइल पर काम कर रहे लोग, जानें क्या है बड़ा कारण से

संपूर्ण संसार को कोरोना वायरस ने अपनी गिरफ्त में ले रखा है.इससे बचने के लिए लोगों ने घर में रहकर लगभग ढाई महीने का वक्त गुजारा.इस दौरान कंपनियों ने वर्क फ्रॉम होम के जरिए कर्मचारियों को घर से ही काम करने की छूट दी.हालांकि अब अनलॉक-1 चल रहा है, लेकिन अभी काफी हद तक वर्क फ्रॉम होम का विकल्प आजमाया जा रहा है.ऐसे में लगातार लैपटॉप, मोबाइल पर काम करना और देर तक टीवी स्क्रीन से चिपके रहना आंखों के लिए कई तरह समस्या का कारण बन रहा है.जानें क्‍या कहते है कानपुर के (एम.एस.) आई सर्जन डॉ. दिलप्रीत सिंह। like आपकी जानकारी के लिए बता दे कि लॉकडाउन के दौरान लगातार घर में रहकर काम या पढ़ने के कारण आंखों में होने वाली परेशानी, जैसे खुजली, सूखापन, आंखों से पानी आना, आंखों का लाल होना, सिरदर्द आदि समस्याओं में पांच से दस फीसद इजाफा हुआ.वैसे भी गर्मियों में आंखों के संक्रमण का खतरा अधिक रहता है.इस समस्या से सबसे ज्यादा कामकाजी लोग प्रभावित हो रहे हैं.इसका प्रमुख कारण बढ़ा हुआ स्क्रीन टाइम है।इसके अलावा आमतौर पर ऑफिस में कंप्यूटर पर 6 से 8 घंटे काम किया जाता है, लेकिन इस दौरान, टी या लंच ब्रेक क